ताज़ा जानकारी

छावनी अनाज मंडी में गुरुवार को साइबर क्राइम को लेकर कार्यशाला हुई। इसमें किसान, व्यापारी और हम्मालों को साइबर क्राइम से बचने के तरीके बताए।
बताया कि कोई भी बैंक किसी भी ग्राहक का एटीएम व क्रेडिट कार्ड का नंबर नहीं पूछती। मोबाइल टावर, सोलर प्लांट लगाने या वेयर हाउस बनवाने की पेशकश कर किसानों को लालच नहीं देती।
इस मौके पर क्राइम एसपी जितेंद्र सिंह, रावजी बाजार थाना प्रभारी आरडी कानवा, मंडी सचिव बीबीएस तोमर, मंडी प्रभारी प्रदीप जोशी सहित अन्य मौजूद थे।

किसानों के लिए जागरुकता संदेश

किसान-कनेक्ट कार्यक्रम

देश एवं प्रदेश में वर्तमान में तथा भविष्य की आवश्यकताओं के दृष्टिगत डिजिटल /इंटरनेट साक्षरता ने अत्याधिक महत्व आकर्षित किया है। मध्यप्रदेश पुलिस के समक्ष ग्रामीण क्षेत्रों में विभिन्न डिपाजिट/इन्वेस्टमेंट कंपनियों द्वारा निवेशकों को ठगे जाने की कई घटनाएं प्रकाश में आयी हैं, जिससे गरीब कृषकों को अत्याधिक आर्थिक क्षति हुई है ।

मध्यप्रदेश सायबर पुलिस

कृषि उपार्जन के दौरान माह मार्च से जून तक मध्यप्रदेश की 257 मण्डियों में कृषकों द्वारा अपनी उपार्जन लाई जायेगी एवं मण्डियों के माध्यम से किसानों को भुगतान किया जायेगा । मण्डियों के पास उपलब्ध किसानों का डाटाबेस भुगतान हेतु मण्डी एवं बैंकों द्वारा प्रयोग किया जाता है

फोटो गैलरी